मजबूती की उम्र में कमजोर हो रहा है दिल ! अच्छी आदतें, लक्षणों पर ध्यान से ही बचाव

मजबूती की उम्र में कमजोर हो रहा है दिल ! अच्छी आदतें, लक्षणों पर ध्यान से ही बचाव
मजबूती की उम्र में कमजोर हो रहा है दिल ! अच्छी आदतें, लक्षणों पर ध्यान से ही बचाव

भागदौड़ भरी जिंदगी में हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, गड़बड़ लिपिड प्रोफाइल, बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल, अधिक वजन की समस्या से जूझ रहे हैं, तो अभी से अलर्ट होने की जरूरत है। ये सभी परेशानियां हार्ट की बीमारियों के खतरे को बढ़ाती हैं।आज के समय में 30-40 साल की उम्र में हार्ट अटैक के मामले देखने को मिल रहे हैं, इनका मुख्य कारण हमारी खराब लाइफस्टाइल है। अगर समय रहते स्थिति को नहीं संभालते हैं तो कम उम्र में हार्ट से जुड़ी बीमारियों की आशंका बढ़ जाती हैं। जानते हैं कि किन बातों पर ध्यान देने की जरूरत है।

हर बार सीने में दर्द हमेशा गैस की वजह से नहीं होता

अक्सर लोगों को जब सीने में दर्द होता है, तो वो मान लेते हैं कि ये गैस की वजह से है। लेकिन ये अनुमान कई बार खतरनाक हो जाता है। अगर बार-बार सीने में दर्द होता है तो गैस मानकर खुद इलाज न करें। पहले अपने डॉक्टर को दिखाएं क्योंकि जितने भी कम उम्र में हार्ट अटैक के मामले आते हैं उसमें पहले से कुछ न कुछ लक्षण जरूर दिखते हैं जिनकी अनदेखी मरीज करता रहता था।

30 की उम्र में ध्यान रखें

यही उम्र है जबसे आपको हैल्थ को लेकर ध्यान देना शुरू करना चाहिए। ऐसा कोई भी काम न करें जो लाइफ स्टाइल से जुड़ी बीमारियों को बढ़ाए। साथ ही अपनी फैमिली हिस्ट्री की जानकारी भी होनी चाहिए। अगर हार्ट से जुड़ी बीमारियों की हिस्ट्री है तो आपको इसी उम्र से स्क्रीनिंग. भी शुरू करवानी चाहिए।

40 उम्र है तो क्या करें

इस उम्र से बीपी, शुगर आदि के भी लक्षण भी दिखने लगते हैं। देश में आधे से ज्यादा लोगों को उन्हें बीमारियों के बारे जानकारी नहीं होती है। स्क्रिनिंग करवाएं। अधिक नमक, फैटी फूड, चीनी से परहेज करें। सप्ताह में 5 पांच दिन व्यायाम करें। १। नशा छोड़ दें। नाश्ता जरूर करें। रोज मौसमी फल-सब्जियां खाएं।

50 उम्र है तो क्या करें

अपने डॉक्टर के संपर्क में रहें। हर छह माह में जांच करवाएं। अगर बीमारी है तो उसे नियंत्रित रखें। दवाइयां न छोड़ें।

लक्षणों का विशेष ध्यान रखें

चक्कर आना, सीने में दर्द होना, सांस फूलना, बेहोशी छाना, अचानक तेज पसीने आना आदि गंभीर बीमारी के संकेत हो सकते हैं, इन्हें नजरअंदाज न करें। अक्सर देखा जाता है कि बुजुर्ग, महिलाओं या डायबिटिक मरीजों को चलते समय सांस फूलने की समस्या होती है, वो जल्दी थक जाते हैं। इन स्थितियों में भी डॉक्टरी सलाह लें। उनकी राय पर ध्यान दें। ये हार्ट से जुड़ी समस्याओं के संकेत भी हो सकते हैं।

  • ऑफिस प्रेशर कम रखें: ऑफिस जाते हैं तो हर 30 मिनट से सीट से छोड़कर वॉक जरूर करें। 10 मिनट ध्यान लगाएं। जंक फूड से दूरी बनाएं। वजन नियंत्रित रखें और नियमित रूप से व्यायाम जरूर करें।
  • स्नैक्स में बदलाव करें: अपने देश में जो स्नैक्स हम खाते हैं वह अधिकतर फ्राइड होते हैं। उनमें 15- 20 फीसदी तक सैचुरेटड फैट होता है। यह सीधे हार्ट हैल्थ को नुकसान पहुंचाता है। इस आदतों में बदलाव से कई बीमारियों से बच सकते हैं।
  • खुश रहने वाले उपाय करें: डाइट में फाइबर वाली चीजें ज्यादा खाएं। रोज थोड़ी देर धूप में बैठें। यह सीधे नहीं लेकिन हृदय रोगों के जोखिम को घटता है। मनुष्य सामाजिक प्राणी है। खुश रहने से ज्यादा बीमारियों से बचाव होता है।

हार्ट अटैक से बचने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि आप अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव करें। यहां 10 जरूरी टिप्स दी गई हैं जो आपको हार्ट अटैक से बचाने में मदद कर सकती हैं:

  1. अपने ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखें। उच्च रक्तचाप हृदय रोग का एक प्रमुख कारण है। अपने रक्तचाप को 120/80 से नीचे रखने की कोशिश करें।
  2. अपनी शुगर को नियंत्रित रखें। मधुमेह भी हृदय रोग का एक प्रमुख कारण है। अपने रक्त शर्करा को 100 मिलीग्राम/डेसीलीटर से नीचे रखने की कोशिश करें।
  3. अपने कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखें। उच्च कोलेस्ट्रॉल हृदय रोग का एक और प्रमुख कारण है। अपने कुल कोलेस्ट्रॉल को 200 मिलीग्राम/डेसीलीटर से नीचे रखने की कोशिश करें, और अपने LDL कोलेस्ट्रॉल को 100 मिलीग्राम/डेसीलीटर से नीचे रखने की कोशिश करें।
  4. स्वस्थ वजन बनाए रखें। अधिक वजन या मोटापा हृदय रोग के जोखिम को बढ़ाता है। एक स्वस्थ वजन बनाए रखने के लिए, अपने कैलोरी सेवन को कम करें और नियमित रूप से व्यायाम करें।
  5. नियमित रूप से व्यायाम करें। व्यायाम हृदय को स्वस्थ रखने में मदद करता है। सप्ताह में कम से कम 150 मिनट मध्यम-तीव्रता वाले एरोबिक व्यायाम या 75 मिनट उच्च-तीव्रता वाले एरोबिक व्यायाम करने का लक्ष्य रखें।
  6. धूम्रपान न करें। धूम्रपान हृदय रोग का एक प्रमुख कारण है। यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो इसे छोड़ने का प्रयास करें।
  7. साफ आहार खाएं। स्वस्थ आहार हृदय को स्वस्थ रखने में मदद करता है। अपने आहार में ताजे फल, सब्जियां, साबुत अनाज और कम वसा वाले प्रोटीन शामिल करें।
  8. तनाव कम करें। तनाव हृदय रोग के जोखिम को बढ़ा सकता है। तनाव कम करने के लिए योग, ध्यान या अन्य आराम तकनीकों का प्रयास करें।
  9. अपनी नियमित स्वास्थ्य जांच करवाएं। 30 वर्ष की आयु के बाद, अपने डॉक्टर से नियमित रूप से अपनी हृदय स्वास्थ्य की जांच करवाएं।
  10. अपने परिवार के इतिहास के बारे में जानें। यदि आपके परिवार में हृदय रोग का इतिहास है, तो आपको हृदय रोग के विकास का खतरा अधिक हो सकता है। अपने परिवार के चिकित्सा इतिहास के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें।

इन युक्तियों का पालन करके, आप हार्ट अटैक के जोखिम को कम करने में मदद कर सकते हैं और एक स्वस्थ और लंबा जीवन जी सकते हैं।

आगे कुछ अतिरिक्त जानकारी:

  • अपने हृदय स्वास्थ्य के बारे में जागरूक रहें। अपने रक्तचाप, रक्त शर्करा, कोलेस्ट्रॉल और वजन की नियमित जांच करवाएं।
  • अपने डॉक्टर से नियमित रूप से सलाह लें। आपके डॉक्टर आपको अपनी व्यक्तिगत स्वास्थ्य स्थितियों के आधार पर विशिष्ट सलाह दे सकते हैं।
  • अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव करें। स्वस्थ जीवनशैली अपनाने से आपका समग्र स्वास्थ्य बेहतर होगा, न केवल आपका हृदय स्वास्थ्य।

ये भी पढ़े

लंबे समय तक बैठने और मानसिक तनाव से भी हो सकता है कब्ज

Leave a Comment